मायके से अंतिम विदाई।

रोहन मुझे प्लीज अपने घरवालों से दूर ले चलो मैं बहुत परेशान हूं अब नहीं बर्दाश्त होता मुझसे ये घुटन भरी जिंदगी ,आज जब राधिका हॉस्पिटल में मौत और जिन्दगी की लड़ाई लड़ रही है तब रोहन को हर बात याद आ रही है जो पिछले दो सालों में हुई हैं।
रोहित की आंख से आंसू बह रहे थे आज जब उसे याद आया कि राधिका ने कितनी बार बताया था उसको कि उसके रोहित के मां बाप उससे खुश नहीं हैं, जानता था रोहित भी कि राधिका पर बहुत अन्याय हो रहे हैं लेकिन अपने मां बाप का एक बेटा था तो वो खुद निर्णय नहीं ले पा रहा था।
राधिका और रोहित ने प्रेम विवाह किया था और रोहित के मां बाप बहुत लालची थे वो चाहते थे रोहित की शादी में मोटा दहेज लेना लेकिन राधिका के पिताजी के पास इतना पैसा नहीं था और रोहित सिर्फ राधिका से शादी करना चाहता था इसलिए शादी को रोहित के मां बाप ने कर दी लेकिन दहेज के लिए आए दिन राधिका को रुलाते थे।
रोहित ऑफिस के काम से बाहर गया था राधिका को उसके ससुराल वालों ने आज बहुत सुनाया और आज वो टूट गई और अपने कमरे में जाते ही उसे ऐसा सदमा लगा कि वो बेहोश हो गई,जब उसकी सास ने देखा ये कहकर बाहर अा गई कि नाटक करना आदत है पड़े रहने दो , पूरी रात वो बेहोश रही सुबह जब उसका पति वापिस आया तो हैरान रह गया ये देखकर और सीधे अपनी राधिका को हॉस्पिटल लेकर भागा,डॉक्टर ने गुस्सा करते सिर्फ इतना कहा कि आपने इन्हे लाने में बहुत देर कर दी है हम कोशिश करेंगे।
रोहित इन सब बातों में कही खो सा गया था इतने में डॉक्टर ने आकर उसको बताया कि राधिका को हार्ट अटैक आया था ,आपने लाने में देर कर दी हम नहीं बचा पाए उन्हें ,रोहित टूट सा गया कि जिसको उसने दिल जान से ज्यादा चाहा आज उसके और उसके मां बाप के कारण वो अब इस दुनिया में नहीं रही।
रोहित रोता हुआ जब राधिका को लेने गया उसे हंसते हुए वो दिखाई देने लगी  और वही बात कह रही हो जो उसने  कुछ महीनों पहले  कहा था कि अगर मैं मर जाऊं तो मुझे मेरे मायके से विदा करना क्योंकि मेरा घर तो वहीं है जहां
मुझे प्यार और सम्मान मिला ,राधिका ने गुस्से में रोहित से ये भी कहा था रोहित तुम्हारे घर से कभी प्यार,सम्मान और अपनापन कभी नहीं मिला ।
राधिका मुझे माफ़ कर देना जीते जी तुम्हे खुशियां नहीं दे पाया लेकिन तुम्हारी अंतिम इच्छा जरूर पूरी करूंगा, रोहित ने सबसे लड़ते हुए खासकर अपनी मां से कि जीते जी कभी उसको आपके घर में इज्जत नहीं मिली और तो और अगर आप उसे अस्पताल ले जाते तो मेरी राधिका आज मेरे सामने होती ,आज वो मेरे साथ नहीं है तो सिर्फ आपके कारण इसलिए मेरी राधिका कि अंतिम विदाई सिर्फ उसके घर से होगी ताकि वो सुकून से का पाए और खुशी खुशी अलविदा कह पाए ।
राधिका चली गई आज हर न्यूज पेपर में बस यही आया कि पति ने दी बीवी को अंतिम विदाई उसके मायके से लेकिन आज रोहित को तसल्ली थी कि उसकी राधिका वहां से गई जहां उसे सिर्फ प्यार और सम्मान मिला था।
राधिका के घर में उसकी फोटो निहारते हुए उसने महसूस किया कि वो आज सालों बाद मुस्कुरा थी और सुकून से विदाई के लिए धन्यवाद कहकर रोहित की नजर के सामने से चली गई उसकी राधिका।।

Related posts

Leave a Comment